कम हो गए झारखंड में गजराज

कम हो गए झारखंड में गजराज

By: Sudakar Singh
May 25, 04:05
0
RANCHI : झारखंड के राजकीय पशु हाथी को शायद अब यहां की आबोहवा भा नहीं रही है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार यहां जंगली हाथियों की संख्या घट गई है।

पिछली गणना में झारखंड में 688 हाथी पाये गये थे। इस बार हाथियों की संख्या 555 रह गई है। राज्य में सबसे अधिक हाथी पलामू टाइगर प्रोजेक्ट में पाये गये हैं। वहां कुल 186 जंगली हाथियों के रहने के प्रमाण मिले हैं। सारंडा में 86 हाथी मिले हैं जबकि दुमका में एक हाथी पाया गया है। रांची प्रक्षेत्र में जंगली हाथियों की कुल संख्या 66 है।
कारण गिना रहा वन विभाग :
वन विभाग का मानना है कि हाथियों की संख्या कम होने के कई कारण हैं। टाइगर प्रोजेक्ट में पुलिस की गतिविधियों से जानवरों को नुकसान हुआ है। दलमा में हाथियों की गिनती जब हो रही थी वह समय विशु शिकार (आदिवासियों की परंपरा) था, संभव है उस समय वहां से हाथी पलायन कर गए। वन विभाग के पीसीसीएफ (वन्य प्राणी) एलआर सिंह का मानना है कि इस बार बंगाल ने ट्रेंच खोद दी है। इस कारण वहां से जो हाथी झारखंड में आते थे वे नहीं आ पाए हैं। वैसे इस बार आसपास के सभी राज्यों में भी हाथियों की गणना हुई है। एक साथ परिणाम आने से हाथियों की सही स्थिति का आकलन किया जा सकता है। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

comments